Monday, March 16, 2009

दोस्त और दोस्ती

किसी ने पूछा दोस्त क्या है ?

मैने काँटो पैर चल कर बता दीया

कितना प्यार करोगे दोस्त को?

मैने पूरा आसमान दिखा दिया

कैसे रखोगे दोस्त को?

मैने हल्के से फूलों को सेहला दिया

किसी की नज़र लग गयी तो ?

मैने पल्को में उस को चुपा लिया

जान से भी प्यारा दोस्त किसे केहते हो ?

मैने आपका नाम बता दिया

1 comment:

श्याम सखा 'श्याम' said...

मेरी बात आपके साथ ?

मुझको अपने पास बुलाकर
खुद भी अपने साथ रहा कर

my blogs- yourgoodself is welcome at
http://gazalkbahane.blogspot.com/
http://katha-kavita.blogspot.com/
remove word varrification to get more comments