Tuesday, July 14, 2009

मोबाइल शिष्टाचार सिखाएगी सरकार

अस्पताल में या अन्य सार्वजनिक स्थानों पर अचानक से मोबाइल की घंटी बजने पर सभी को काफी परेशानी होती है, लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। दरअसल सरकार ने लोगों को मोबाइल पर बात करने संबंधी शिष्टाचार सिखाने का निर्णय लिया है।
इस क्रम में दूरसंचार विभाग ने मोबाइल सेवा प्रदाता कंपनियों को निर्देश दिया गया है कि वे सिम या मोबाइल सेट खरीदने वाले उपभोक्ताओं को मोबाइल फोन के उपयोग के बाबत जरूरी शिष्टाचार बताने के लिए लिखित सामग्री उलब्ध कराने की व्यवस्था सुनिश्चित करे। लोगों की सुविधा के लिए यह सामग्री अंग्रेजी के साथ ही क्षेत्रीय भाषाओं में भी उपलब्ध कराने के निर्देश दिए गए है।
दूरसंचार विभाग का कहना है, ग्राहकों को मोबाइल पर बात करने के तौर तरीके सिखाना भी मोबाइल कंपनियों की जिम्मेदारी है।
गौरतलब है कि अनेक विकसित देशों में मोबाइल फोन के इस्तेमाल को लेकर नियम कायदे पहले से ही लागू हैं। अमेरिका, कनाडा और यूरोप के स्कूलों में कक्षा में मोबाइल फोन लाने की इजाजत नहीं है।

* अस्पताल, एयरक्राफ्ट, सिनेमाघर, पूजाघर जैसे सार्वजनिक स्थानों पर मोबाइल फोन को स्विच ऑफ या वाइब्रेशन पर रखें।
* ड्राइविंग करते समय मोबाइल पर बात न करे।
* किसी की जानकारी के बिना मोबाइल से उसकी फोटो न खीचें।
* मोबाइल की रिंगटोन बहुत तेज नहीं होनी चाहिए।

2 comments:

'अदा' said...

जी हाँ, जब लोग शिष्टाचार भूल जाएँ तो सरकार को ही पड़ना पड़ता है, अच्छी जानकारी दी आपने...
धन्यववाद..

राजेंद्र माहेश्वरी said...

क्या आप इस तरह के मेसेज अपने मोबाइल पर निशुल्क प्राप्त करना चाहते
सोचो ! अगर ईश्वर प्रति दिन का हमसे 1000 रूपया लेता तो क्या हम एक सैकण्ड भी व्यर्थ करते।

• यदि बड़ा आदमी बनना हैं तो पहले छोटा आदमी बनो।
• सकारात्मक सोचने की कला-सोचे वही जो बोला जा सके और बोले वही जिसके नीचे हस्ताक्षर किये जा सके।
• जो लोग सुबह उगता हुआ सूरज देखते हैं, वे उगते हुए भाग्य के मालिक बनते हैं।
• हमें स्वयं को केवल एक मिनट के लिये बूढ़ा बनाना चाहिये। कब ? जब सामने मौत आने वाली हो।
• असफलता की ट्रेन आमतौर पर अनिर्णय की पटरी पर दौड़ती हैं।
• 99 फीसदी मामलों में वही लोग असफल होते हैं, जिनमें बहाने बनाने की आदत होती हैं।
• इन्सान को सद् इन्सान केवल विचारों के माध्यम से बनाया जा सकता है।
• मालिक बारह घण्टे काम करता हैं, नौकर आठ घण्टे काम करता हैं, चोर चार घण्टे काम करता हैं। हम सब अपने आप से पूछे कि हम तीनों में से क्या है।
• भगवान की दुकान प्रात: चार बजे से छ: बजे तक ही खुलती है।
• परिवर्तन से डरोगे तो तरक्की कैसे करोगे ?
• सबसे अधिक खराब दिन वे हैं जब हम एक बार भी हँसी के ठहाके नहीं लगाते हैं।
• सद्विचार सत्य को लक्ष्य करके छोड़ा हुआ तीर है।
• आप ढूँढे तो परेशानी का आधा कारण अपने में ही मिल जाता है।
• यदि जीने की कला हाथ लग जाये तो जीवन बांस का टुकड़ा नहीं, आनन्द देने वाली बांसुरी बन जाती है।
• यदि हम किसी दूसरे जैसा बनने की कोशिश करते हैं, तो दूसरे स्थान पर ही रहते हैं। अगर हमें आदर्श स्थिति पर पहुंचना हैं, तो खुद अपना रास्ता बनाना होगा।
• कई लोग जिंदगी में सही निशाना तो साध लेते हैं, पर ट्रिगर नहीं दबा पाते हैं, जिंदगी में निर्णय लेना बेहद जरूरी हैं।
• प्रेम दूरबीन से देखता हैं और ईश्र्या माइक्रोस्कोप से।
• श्रेष्ठ प्रबन्धन संघर्ष और सफलता के बीच के अन्तर को समाप्त करता हैं।
• बीते समय में हमने भविष्य की चिन्ता की, आज भी हम भविष्य के लिये सोच रहे हैं और शायद कल भी यही करेंगे। फिर हम वर्तमान का आनन्द कब लेंगे ?
• किसी में कमी तलाश करने वालों की मिसाल उस मक्खी की तरह हैं जो पूरा सुन्दर जिस्म छोड़कर सिर्फ जख्म पर ही बैठती हैं।
• जीतने वाले कोई अलग काम नहीं करते हैं, वे तो बस हर काम को अलग अन्दाज से करते हैं।
• जिन्दगी में कभी किसी के ऊपर निर्भर नहीं रहना, चाहे वह आपकी परछाया ही क्यो न हो, अंधेरे में वह भी आपका साथ छोड़ देगी।
• एक ध्येय वाक्य-``यह भी बीत जायेगा।´´ ये चार शब्द चार वेदों का काम कर सकते हैं।

यदि हाँ तो-

अपने मोबाइल में मेसेज टाइप करे - JOIN लिखे, इसके बाद एक स्पेस दे, फिर MOTIVATIONS लिखे। इसे 09870807070 पर भेज दें। Successfully subscribe होने के बाद प्रतिदिन आपको अनमोल सद्विचार अपने मोबाइल पर प्राप्त होते रहेंगे। यह सेवा पूर्णतया नि:शुल्क हैं। हमारी आप सभी से यह विनम्र अपील हैं कि आप सभी विचार क्रान्ति अभियान की इस अभिनव योजना से जुड़े और अधिकाधिक लोगों को इस योजना से जोड़ने का प्रयास करावें।

जनमानस परिष्कार मंच
http://yugnirman.blogspot.com/2010/01/blog-post.html